मेन्यू बंद करे

धातु हमेशा ठंडा क्यों होता है ?

आपने कभी सोचा कि धातु हमेशा ठंडा क्यों होता है ?

आपने जरूर ध्यान दिया होगा की जब भी कोई धातु हम छूते हैं तो वह ठंडा महसूस होता है |

पर कभी इस बात पर गौर नहीं किया होगा की यह धातु हमेशा ठंडा ही क्यों रहता है ?

आज हम इस आसान से सवाल का जवाब आसान वाक्यों में समझेंगे कि इसमें विज्ञान की कौन सी बात हैं |

ऐसा इसलिए होता है कि धातु ऊष्मा का सुचालक (Good Conductor of Heat) होता हैं |

जिसके कारण ऊष्मा हमेशा उससे होकर आसानी से गुजरती रहती है |

जिसके कारण ऊष्मा धातु में ठहर नहीं पाती जो कि उसे गर्म कर पाए।

हमारी अंगुलियाँ हमारे शरीर के ऊष्मा के कारण गर्म रहती है |

जब हम किसी धातु को छूते हैं तो हमारे शरीर से ऊष्मा धातु की ओर बहती है | (धातु ऊष्मा का सुचालक है |)

ऊष्मा का शरीर से धातु की ओर लगातार बहना हमें ठंडा महसूस करवाती है |

जब हमारे शरीर से ऊष्मा का ह्रास होता है तो हमें ठंड महसूस होता है |

इसलिए धातु हमें हमेशा हमें छूने में ठंडा लगता है।

कई धातु ऊष्मा के सुचालक है और कई ऐसे भी धातु है जो कि सुचालक नहीं है।

इसे भी जाने धन प्रेषण क्या है ?

अपनी प्रतिक्रिया दे...

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: