मेन्यू बंद करे

Category: नाटक समीक्षा

ध्रुवस्वामिनी नाटक – जयशंकर प्रसाद की समीक्षा और पात्र परिचय

ध्रुवस्वामिनी नाटक जयशंकर प्रसाद की अंतिम एवं अत्यंत महत्वपूर्ण नाट्यकृति है। ध्रुवस्वामिनी एक नारी प्रधान नाटक है। इस नाटक में नाट्यवस्तु और नाट्यशिल्प को उचित…

महाभोज नाटक – मन्नू भंडारी की समीक्षा और पात्र परिचय

महाभोज नाटक सर्वप्रथम उपन्यास के रूप 1979 में प्रकाशित हुआ। फिर इसे नाटक के रूप में 1983 में प्रकाशित किया गया। हिंदी साहित्य जगत में…

चन्द्रगुप्त नाटक – जयशंकर प्रसाद की समीक्षा और पात्र परिचय

चन्द्रगुप्त नाटक का प्रकाशन 1931 में हुआ। चंद्रगुप्त के जन्म के पहले तक मौर्य वंश ने कोई भी ऐतिहासिक कार्य नहीं किया था। तब तक…

स्कन्दगुप्त नाटक – जयशंकर प्रसाद की समीक्षा और पात्र परिचय

स्कन्दगुप्त नाटक 1928 में प्रकाशित हुआ। नाटक पाँच अंकों में विभाजित है और प्रत्येक अंक दृश्यों में। स्कन्दगुप्त ने भारत की हूणों से रक्षा की।…

एक और द्रोणाचार्य नाटक – शंकर शेष की समीक्षा और पात्र परिचय

एक और द्रोणाचार्य नाटक 1972 में प्रकाशित हुआ। कथानक में एक शिक्षक की तुलना द्रोणाचार्य से की जाती है, जिसने एक शिक्षक को अन्याय सहन…